Raksha Bandhan in Hindi | जानिए रक्षाबंधन को मनाने का इतिहास

raksha bandhan

Raksha Bandhan in Hindi

Happy Raksha Bandhan to you all ! रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं !

रक्षाबंधन भारत में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय, पारंपरिक हिंदू त्यौहार है।

एक भाई और बहन के बीच का संबंध अनोखा होता है और शब्दों में वर्णन से परे होता है।

भाई-बहनों के बीच का संबंध असाधारण है और दुनिया के हर हिस्से में इसे महत्व दिया जाता है।

रक्षाबंधन का त्यौहार भाई-बहन के रिश्ते के शाश्वत प्रेम का प्रतीक है।

“रक्षाबंधन” के “रक्षा” का मतलब सुरक्षा और “बंधन” का मतलब बाध्य होता है।

त्यौहार के अवसर पर बहनें अपने भाइयों की कलाई में रक्षासूत्र या राखी बाँधती हैं।

राखी को रेशमी धागे और सजावट की कुछ वस्तुओं को मिलाकर बनाया जाता है।

बदले में भाई अपनी बहन को शगुन या कुछ उपहार देते हैं और अपनी बहन को हर परिस्थिति में किसी भी नुकसान से बचाने का वादा करते हैं।

त्यौहार दूर के परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों या चचेरे भाइयों से संबंधित भाई-बहन के बीच भी मनाया जाता है।

रक्षाबंधन हिंदू कैलेंडर के श्रावण मास के अंतिम दिन (श्रावण मास की पूर्णिमा को) मनाया जाता है जो आमतौर पर अगस्त में पड़ता है।

History of Raksha Bandhan / रक्षाबंधन का इतिहास

रक्षाबंधन के त्यौहार की शुरुआत सदियों पहले हुई थी और इस विशेष त्यौहार को मनाने के पीछे कई कहानियाँ हैं।

Mythological context of Rakshabandhan

इंद्र देव और शचि-

भविष्य पुराण की प्राचीन कथा के अनुसार, एक बार देवताओं और राक्षसों के बीच भीषण युद्ध हुआ था।

भगवान इंद्र देवताओं की तरफ से लड़ाई लड़ रहे थे।

उन्हें शक्तिशाली दानव राजा बलि से एक कठिन प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा था।

युद्ध लंबे समय तक जारी रहा और निर्णायक अंत तक नहीं आया।

यह देखकर भगवान इंद्र की पत्नी शचि भगवान विष्णु के पास गईं और मदद मांगी।

भगवान विष्णु ने उन्हें एक सूती धागे से बना हुआ पवित्र कंगन दिया।

शचि ने अपने पति भगवान इंद्र की कलाई पर वो पवित्र धागा बांधा, और अंततः भगवान इंद्र ने राक्षसों को हराया और अमरावती को पुनः प्राप्त किया।

वर्तमान समय के विपरीत, वे पवित्र सूत्र भाई-बहन के रिश्तों तक सीमित नहीं थे।

राजा बलि और देवी लक्ष्मी-

भागवत पुराण और विष्णु पुराण के अनुसार, जब भगवान विष्णु ने राक्षस राजा बलि से तीनों लोकों को जीत लिया, तो उन्हें बलि ने महल में उनके पास रहने के लिए कहा।

भगवान विष्णु ने अनुरोध को स्वीकार कर लिया और राक्षस राजा के साथ रहना शुरू कर दिया।

हालाँकि, भगवान विष्णु की पत्नी देवी लक्ष्मी अपने पैतृक निवास वैकुंठ जाना चाहती थीं।

इसलिए उन्होंने राक्षस राजा बलि की कलाई पर राखी बांधी और उसे भाई बनाया।

वापसी उपहार के बारे में पूछने पर, देवी लक्ष्मी ने बलि को अपने पति को व्रत से मुक्त करने और वैकुंठ लौटने के लिए कहा।

बलि अनुरोध पर सहमत हुआ और भगवान विष्णु अपनी पत्नी देवी लक्ष्मी के साथ अपने स्थान पर लौट आए।

कृष्ण और द्रौपदी-

महाभारत के एक लेख के आधार पर, पांडवों की पत्नी द्रौपदी ने भगवान कृष्ण को राखी बांधी।

और कुंती ने महाकाव्य युद्ध से पहले पोते अभिमन्यु को राखी बांधी थी।

The historical context of Raksha Bandhan

भारतीय इतिहास के अनुसार जब राजपूत लड़ाई पर जाते थे तब महिलाएँ उनके माथे पर कुमकुम तिलक लगाने के साथ-साथ हाथ में रेशमी धागा भी बाँधा करती थी।

यह इसलिए कि उन्हें विजय प्राप्त हो।

एक और प्रसंग के अनुसार, मेवाड़ की रानी कर्मावती को बहादुरशाह द्वारा मेवाड़ पर हमला करने की पूर्व सूचना मिली थी।

क्योंकि रानी लड़ाई कर पाने में असमर्थ थी इसलिए रानी ने मुगल बादशाह हुमायूँ को राखी भेज कर रक्षा की याचना की।

हुमायूँ ने मेवाड़ पहुँच कर बहादुरशाह के विरूद्ध मेवाड़ की ओर से लड़ते हुए कर्मावती व उसके राज्य की रक्षा की।

इस प्रकार हुमायूँ ने मुसलमान होते हुए भी राखी की लाज रखी।

एक अन्य प्रसंग के अनुसार सिकन्दर की पत्नी ने अपने पति के हिन्दू शत्रु पोरस को राखी बाँधकर अपना मुँहबोला भाई बनाया था और युद्ध के समय सिकन्दर को न मारने का वचन लिया था।

युद्ध के दौरान हाथ में बँधी राखी और अपनी बहन को दिये हुए वचन का सम्मान करते हुए पोरस ने सिकन्दर को जीवन-दान दिया।

Raksha Bandhan celebration

Raksha_Bandhan

विभिन्न क्षेत्र अलग-अलग तरीकों से इस दिन को चिह्नित करते हैं।

इस दिन हमारे देश के जवानों को भी राखी बाँधी जाती है और उनके लिए प्राथनाएँ की जाती है।

देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और कई राजनेताओं को भी राखी बाँधी जाती है।

पश्चिम बंगाल और ओडिशा राज्य में, इस दिन को झूलन पूर्णिमा भी कहा जाता है।

भगवान कृष्ण और राधा की पूजा और पूजा की जाती है।

महाराष्ट्र में, रक्षा बंधन का त्यौहार नरली पूर्णिमा (नारियल दिवस का त्यौहार) के साथ मनाया जाता है।

उत्तर भारत के क्षेत्रों में, खासकर जम्मू में, जन्माष्टमी और रक्षा बंधन के अवसरों पर पतंग उड़ाना एक आम बात है।

हरियाणा में, रक्षा बंधन मनाने के अलावा लोग सलोनो त्योहार मनाते हैं।

यह दक्षिण एशिया के कुछ अन्य हिस्सों जैसे नेपाल, मॉरीशस और हिंदू संस्कृति से प्रभावित दुनिया भर के लोगों के बीच भी मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें:



यह पोस्ट Raksha Bandhan In Hindi आपको कैसा लगा ? अपने विचार comments के माध्यम से जरूर share करें।

Leave a Reply