Neeraj Chopra Biography in Hindi | नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय

Neeraj Chopra

Neeraj Chopra Biography in Hindi

7 अगस्त 2021 को टोक्यो के ओलंपिक खेलों में भारत के लिए 23 साल के एक खिलाड़ी ने गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। Neeraj Chopra ने javelin throw यानी भाला फेंक में सर्वाधिक दूरी तय करने के साथ ही गोल्ड मेडल पर कब्जा जमा लिया।

उनकी जीत ने भारत के लोगों का सीना गर्व से चौड़ा कर दिया।

तो आइये जानें उस 23 साल के खिलाड़ी नीरज चोपड़ा के बारे में –

Neeraj Chopra Biography 

नीरज चोपड़ा एक track and field एथलीट हैं जो javelin throw में प्रतिस्पर्धा करते हैं।

वे भारतीय सेना में Junior Commissioned Officer (JCO) भी हैं।

2020 के टोक्यो ओलंपिक में अपने पदार्पण में, नीरज ने 87.58 m throw के साथ  स्वर्ण पदक जीता।

वे अब तक, केवल दो भारतीयों में से एक हैं जिन्होंने व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक जीते हैं (दूसरे अभिनव बिंद्रा)।

साथ ही एक व्यक्तिगत स्पर्धा में सबसे कम उम्र के भारतीय स्वर्ण पदक विजेता हैं।

और एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने अपने पहले ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीता है।

Early Life of Neeraj Chopra

नीरज चोपड़ा का जन्म 24 दिसंबर 1997 को हरियाणा के पानीपत में हुआ था।

नीरज के पिता का नाम सतीश कुमार और माता का नाम सरोज देवी है।

उनकी दो बहनें हैं और उनका परिवार मुख्यतः कृषि से जुड़ा है।

उन्होंने चंडीगढ़ के डीएवी कॉलेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की है।

Athletics Career

नीरज बताते हैं कि बचपन में वे थोड़े मोठे थे। इस कारण स्थानीय बच्चे उन्हें चिढ़ाते थे।

नीरज के पिता ने ये देखने के बाद उन्हें मदलौडा के एक व्यायामशाला में दाखिला दिलाया ताकि नीरज अपना वजन थोड़ा कम करके फिट हो जाएँ।

बाद में उन्हें पानीपत के एक जिम में दाखिला मिल गया।

पानीपत के शिवाजी स्टेडियम में खेलते समय, उन्होंने कुछ भाला फेंकने वालों को देखा।

नीरज बताते हैं कि जब उन्होंने भाला को उड़ते हुए देखा और जब वो नीचे गिरते हुए ज़मीन में गड़ गया तो उन्हें ये देखकर काफी अच्छा लगा।

फिर उन्होंने भी भाला फेंकने की सोची और javelin throw शुरू कर दिया।

नीरज पानीपत Sports Authority of India (SAI) गए।

वहाँ उन्होंने पहले कोच जयवीर चौधरी और अनुभवी एथलीटों से basics सीखी।

उन्हें जल्द ही अपना पहला पदक मिला जब उन्होंने जिला चैंपियनशिप में एक कांस्य जीता।

और फिर उन्हें पानीपत में रहने की अनुमति मिली।

नीरज चोपड़ा को 13 साल की उम्र में पंचकूला के ताऊ देवी लाल स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में भर्ती कराया गया था।

वहाँ उन्होंन कोच नसीम अहमद से प्रशिक्षण लिया।

उन्होंने नीरज को भाला फेंक के साथ लंबी दूरी की दौड़ में प्रशिक्षित किया।

वहाँ कोच की कमी थी, इसलिए नीरज और साथी खिलाड़ी परमिंदर सिंह ने Czech Republic चैंपियन Jan Zelezny के वीडियो download किए और उनकी शैली की नकल करने का प्रयास किया।

शुरुआत में, Neeraj Chopra ने आम तौर पर लगभग 55 मीटर की थ्रो हासिल की।

27 अक्टूबर 2012 को लखनऊ में राष्ट्रीय जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 68.40 मीटर के नए राष्ट्रीय रिकॉर्ड थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता।

International Career of Neeraj Chopra

2013 में, नीरज चोपड़ा ने यूक्रेन में विश्व युवा चैंपियनशिप में अपनी पहली अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग किया।

उन्होंने 2014 में अपना पहला अंतर्राष्ट्रीय पदक, बैंकॉक में Youth Olympics Qualification में एक रजत जीतकर हासिल किया।

उन्होंने 2014 के वरिष्ठ नागरिकों में 70 मीटर से अधिक का अपना पहला थ्रो हासिल किया।

इसके बाद उनका सफर चल पड़ा।

Junior World Champion and Junior Commissioned Officer

नीरज चोपड़ा ने Bydgoszcz, Poland में 2016 IAAF World U20 चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता और 86.48 मीटर का विश्व जूनियर रिकॉर्ड बनाया, जो विश्व रिकॉर्ड हासिल करने वाले पहले भारतीय एथलीट बन गए।

दक्षिण एशियाई खेलों में चोपड़ा के प्रदर्शन से प्रभावित होकर और उनकी भविष्य की क्षमता को देखते हुए, भारतीय सेना ने उन्हें नायब सूबेदार के पद के साथ राजपूताना राइफल्स में एक Junior Commissioned Officer (JCO) के रूप में सीधी नियुक्ति की पेशकश की।

उन्हें औपचारिक रूप से दिसंबर 2016 में एक JCO के रूप में शामिल किया गया, और बाद में उन्हें अपना प्रशिक्षण जारी रखने के लिए विस्तारित अवकाश प्राप्त हुआ।

27 अगस्त को, उन्होंने 2018 एशियाई खेलों में पुरुषों की भाला फेंक में स्वर्ण पदक जीता।

यह एशियाई खेलों में भाला फेंक में भारत का पहला स्वर्ण पदक भी था।

नीरज चोपड़ा उस वर्ष एकमात्र ट्रैक और फील्ड एथलीट थे, जिन्हें Athletics Federation of India द्वारा देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार, मेजर ध्यानचंद खेल रत्न के लिए अनुशंसित किया गया था, लेकिन उन्हें सितंबर 2018 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उन्हें नवंबर में एक आउट-ऑफ-टर्न पदोन्नति के साथ सूबेदार के रूप में सेना द्वारा पुरस्कृत किया गया था।

2020 Tokyo Olympics

4 अगस्त 2021 को, चोपड़ा ने National Stadium Japan में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए ओलंपिक में पदार्पण किया।

नीरज ने अपने ग्रुप में टॉप किया और 86.65 मीटर के थ्रो के साथ final के लिए qualify किया।

उन्होंने अपने दूसरे प्रयास में 87.58 मीटर के थ्रो के साथ 7 अगस्त को final में स्वर्ण पदक जीता।

इसके साथ ही वे Athletics में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय ओलंपियन और Athletics में स्वतंत्रता के बाद पहले भारतीय ओलंपिक पदक विजेता बने।

नीरज चोपड़ा के पदक ने भारतीय ओलंपिक दल को कुल सात पदक दिलाए, जो 2012 के लंदन ओलंपिक में अर्जित छह पदकों के भारत के पिछले सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन को पार कर गया।

टोक्यो में अपने प्रदर्शन के परिणामस्वरूप, नीरज पुरुषों के javelin throw में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दूसरे स्थान पर रहने वाले एथलीट बन गए हैं।

नीरज चोपड़ा अभिनव बिंद्रा के बाद व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय भी बने, जिन्होंने 2008 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल में स्वर्ण पदक जीता था।

उन्होंने अपनी जीत sprinters मिल्खा सिंह और पी. टी. उषा को समर्पित की, जो भारत के दोनों पूर्व ओलंपियन हैं।

इन्हें भी देखें:



उम्मीद है Neeraj Chopra के बारे में ये पोस्ट Neeraj Chopra Biography in Hindi आपको पसंद आया होगा। अपने विचार comments के माध्यम से जरूर share करें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: