General Bipin Rawat Biography in Hindi | जनरल बिपिन रावत की जीवनी

General Bipin Rawat

General Bipin Rawat Biography in Hindi

General Bipin Rawat एक भारतीय सैन्य अधिकारी थे जो भारतीय सेना के four-star जनरल थे।

उन्होंने जनवरी 2020 से भारतीय सशस्त्र बलों के पहले Chief of Defence Staff (CDS) के रूप में कार्य किया।

उन्होंने Chiefs of Staffs Committee के 57वें और अंतिम अध्यक्ष के साथ-साथ भारतीय सेना के 26वें सेनाध्यक्ष के रूप में कार्य किया।

8 दिसंबर 2021 को तमिलनाडु में भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटना में उनकी की मृत्यु हो गई।

उनके साथ उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य लोगों की मृत्यु हो गयी।

Early Life of General Bipin Rawat and Education

General Bipin Rawat का जन्म 16 मार्च 1958 को उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के पौड़ी कस्बे में हुआ था।

उनका परिवार कई पीढ़ियों से भारतीय सेना में अपनी सेवायें देता आ रहा था।

उनके पिता लक्ष्मण सिंह रावत पौड़ी गढ़वाल जिले के सैंज गांव से थे।

वे अपनी सेवा के दौरान लेफ्टिनेंट जनरल के पद तक पहुंचे।

उनकी मां उत्तरकाशी के पूर्व विधायक किशन सिंह परमार की बेटी थीं।

General Bipin Rawat Education 

जनरल बिपिन रावत एक उच्च शिक्षित अधिकारी थे।

उन्होंने देहरादून में Cambrian Hall School और शिमला में St. Edward’s School में पढ़ाई की।

इसके बाद वे National Defence Academy, खडकवासला और Indian Military Academy, देहरादून में शामिल हो गए।

यहाँ से उन्होंने स्नातक किया और उन्हें ‘Sword of Honour’ से सम्मानित किया गया।

जनरल बिपिन रावत Defence Services Staff College (DSSC), वेलिंगटन से भी स्नातक थे।

उन्होंने 1997 में फोर्ट लीवेनवर्थ, कंसास में United States Army Command and General Staff College (USACGSC) में हायर कमांड कोर्स में भी स्नातक किया था।

DSSC में अपने कार्यकाल से, उन्होंने University of Madras से रक्षा अध्ययन में MPhil की डिग्री के साथ-साथ प्रबंधन और कंप्यूटर अध्ययन में diploma प्राप्त किया।

2011 में, उन्हें सैन्य-मीडिया रणनीतिक अध्ययन पर उनके शोध के लिए CCS University, Meerut द्वारा doctorate की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था।

General Bipin Rawat Military Career

General Bipin Rawat को 16 दिसंबर 1978 को 5वीं बटालियन, 11 Gorkha Rifles (5/11 GR) में नियुक्त किया गया था।

यह उनके पिता की ही इकाई थी। उन्हें उच्च-ऊंचाई वाले युद्ध का बहुत अनुभव था।

उन्होंने आतंकवाद विरोधी अभियानों का संचालन करते हुए दस साल बिताए।

43 साल की सेवा के दौरान जनरल रावत ने एक ब्रिगेड कमांडर, जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, दक्षिणी कमान, सैन्य संचालन निदेशालय में जनरल स्टाफ ऑफिसर ग्रेड 2, कर्नल सैन्य सचिव और उप सैन्य सचिव के रूप में कार्य किया है।

वे संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के भी हिस्सा रहे हैं।

उन्होंने पूर्व-उत्तर में आतंकवाद को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

Myanmar Strikes

जून 2015 में, मणिपुर में United Liberation Front of Western South East Asia (UNLFW) से संबंधित उग्रवादियों द्वारा किए गए घात में अठारह भारतीय सैनिक मारे गए थे।

भारतीय सेना ने सीमा पार से हमलों का जवाब दिया।

पैराशूट रेजिमेंट की 21वीं बटालियन की इकाइयों ने म्यांमार में NSCN-K बेस पर हमला किया।

21 Para दीमापुर स्थित III Corps के संचालन नियंत्रण में था, जिसकी कमान तब बिपिन रावत के पास थी।

Uri Surgical Strike

जनरल बिपिन रावत 2016 की सर्जिकल स्ट्राइक की योजना का भी हिस्सा था, जिसमें भारतीय सेना नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (POK) में चली गई थी।

Awards 

लगभग 43 वर्षों के अपने करियर के दौरान, उन्हें परम विशिष्ट सेवा पदक, उत्तम युद्ध सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, युद्ध सेवा पदक, सेना पदक, विशिष्ट सेवा पदक, दो मौकों पर सीओएएस प्रशस्ति और सेना कमांडर की प्रशस्ति से सम्मानित किया गया।

Death

8 दिसंबर 2021 को, जनरल रावत, उनकी पत्नी और उनके स्टाफ के सदस्यों ने Sulur Airforce base से Defence Services Staff College (DSSC), Wellington के लिए Indian Air Force Mil Mi-17 हेलीकाप्टर से उड़ान भरी थी।

यहाँ उन्हें व्याख्यान देना था।

ये उनके शिक्षा प्राप्त करने वाले संस्थानों में से एक है।

लेकिन दोपहर करीब 12:10 बजे, ख़राब मौसम के कारण विमान नीलगिरी जिले के कुन्नूर तालुक के कट्टेरी-नंचप्पनचत्रम क्षेत्र में नानजप्पाचतिराम, बंदिशोला पंचायत के बाहरी इलाके में निजी चाय बागान के कर्मचारियों की एक आवासीय कॉलोनी के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

इसमें जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और उनके साथ 11 अन्य लोगों की मृत्यु हो गयी।

जनरल रावत के संपर्क अधिकारी, ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह एकमात्र जीवित बचे।

इन्हें भी देखें:



General Bipin Rawat के बारे में ये post General Bipin Rawat Biography in Hindi आपको कैसा लगा। अपने विचार comments के माध्यम से अवश्य share करें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: