About Me

Hi friends!
Welcome to my blog “DiaryAndMe.
My name is Nikhil Kumar.
nikhil
Friends, मुझे हमेशा से ही थोड़ी-बहुत लिखने की आदत रही है। मगर उसमें एक consistency नाम की चीज़ नहीं थी।
मुझे याद है जब मैं class 8th में था तो हमारे एक teacher ने हमसे कहा था कि “अगर आप अपनी writing skills को निखारना चाहते हैं तो एक diary लिखने की आदत बनाइये।
उस particular दिन में आपने जो कुछ भी किया उसे summarize करते हुए सोने से पहले diary में लिखा कीजिये।”
तो मैंने एक diary खरीदकर लिखना शुरू कर दिया था। शुरू-शुरू में मैं सिर्फ 2-3 lines ही लिख पाता था।
मगर धीरे-धीरे ये आदत बनती गयी और हर week मुझे कुछ न कुछ अच्छा मिल ही जाता था लिखने के लिए। इस तरह से ये सिलसिला चलता रहा।
मगर कुछ सालों के बाद ये लिखने की आदत जाती हुई दिखाई देने लगी। शायद, life थोड़ी busy हो गयी थी। इसलिए कभी-कभार ही लिख पाता था।
मैं इस habit को दुबारा से develop करना चाहता हूँ। This blog is a result of that.
मेरी लिखने की शुरुआत diary से हुयी थी तो मैंने इस blog का नाम भीDiaryAndMe ही रखा है न की कोई catchy-सा नाम।
और हाँ, मुझे ये भी लगता है कि life में हर पल हम कुछ न कुछ जरूर सीखते हैं।
Therefore, the tagline “every moment is worth learning“.
मैं हर उस चीज़ के बारे में लिखता हूँ जो मुझे inspire और motivate करे, मेरी attention grab करे।
मैं इन्हे share करना चाहता हूँ क्योंकि मैं चाहता हूँ कि लोग इन्हें अपनी life से relate कर सकें।
मैं मानता हूँ कि सबकी life लगभग इसी तरह की होती है।
और अगर इन experiences से 100 में से किसी 1 का भी भला होगा तो मैं अपने आपको धन्य मानूंगा।
हिंदी मैंने इसलिए चुनी है क्योंकि मुझे लगता है कि ज्यादातर लोग हिंदी में ही पढ़ना पसंद करते हैं।
शायद English में वो feel नहीं आती। कुछ English words जरूर use किये हैं मैंने।
अगर मैंने pure हिंदी का प्रयोग किया तो भी पढ़ने में शायद boring-सा लगे।
I hope you’ll enjoy reading my blogs.