Yuvraj Singh Biography in Hindi | युवराज सिंह का जीवन परिचय

yuvraj singh

Yuvraj Singh Biography in Hindi

Yuvraj Singh एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर हैं, जिन्होंने क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में खेला है।

युवराज एक ऑलराउंडर थे जो मध्य क्रम में बाएं हाथ से बल्लेबाजी करते थे और बाएं हाथ से orthodox गेंदबाजी करते थे।

वे विशेष रूप से अपनी hard-hitting और अपनी fielding के लिए जाने जाते थे।

10 जून 2019 को, युवराज ने क्रिकेट के सभी रूपों से संन्यास की घोषणा की।

उन्होंने आखिरी बार जून 2017 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ ODI में भारत का प्रतिनिधित्व किया था।

आइये देखते हैं कैंसर से लड़ने वाले इस महान योद्धा की कहानी-

Yuvraj Singh का प्रारंभिक जीवन

Yuvraj Singh का जन्म 12 December 1982 को सिख परिवार में हुआ।

उनके पिता भारत के पूर्व क्रिकेटर योगराज सिंह हैं और उनकी माता का नाम शबनम सिंह है।

टेनिस और रोलर स्केटिंग बचपन में युवराज का पसंदीदा खेल हुआ करते थे।

उन्होंने National Under-14 Roller Skating Championship भी जीती थी।

पर उनके पिता ने युवराज के जीते हुए medal को फेंक दिया।

उन्होंने युवराज से कहा कि वे skating को भूल जाएं और क्रिकेट पर ध्यान केंद्रित करें।

वे हर दिन युवराज को ट्रेनिंग पर ले जाता थे।

युवराज ने चंडीगढ़ के DAV Public School से पढ़ाई की।

उन्होंने DAV College, Panjab University, Chandigarh से Commerce में स्नातक की डिग्री पूरी की।

अपने माता-पिता के तलाक के बाद, युवराज ने अपनी माँ के साथ रहने का फैसला किया।

पढ़ें: बिल गेट्स का जीवन परिचय

Yuvraj Singh का क्रिकेट कैरियर

Yuvraj Singh ने अपने कैरियर के दौरान कई बेहतरीन पारियाँ खेली और गेंदबाज़ी में भी कमाल के प्रदर्शन किये।

हालाँकि उन्हें अपने कैरियर के दौरान कई बार मुश्किल दौर से गुज़ारना पड़ा।

टेस्ट क्रिकेट में वे खास प्रदर्शन नहीं कर सके।

Limited overs format के वे सबसे महानतम खिलाड़ियों में से एक थे।

Yuvraj Singh’s Debut

U-19 टीम में शानदार प्रदर्शन के बाद युवराज को भारतीय टीम में ICC Knockout Trophy 2000 के लिए चुना गया था।

उन्होंने केन्या के खिलाफ pre-quarterfinal में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया।

उन्होंने 16 रन देकर चार ओवर फेंके लेकिन बल्लेबाजी करने नहीं उतरे।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ quarter-final मैच में, ग्लेन मैकग्राथ, ब्रेट ली और जेसन गिलेस्पी के पेस अटैक के खिलाफ युवराज ने 84 (80) रनों की पारी खेली, जिसने भारत को 20 रनों से जीत दिलाई

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सेमीफाइनल में उन्होंने 41 रन बनाए और 15 रन देकर 1 विकेट लिया।

उन्होंने फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ केवल 14 रन बनाए।

हालाँकि भारत फाइनल में हार गया।

2002 Natwest Series

NatWest Series में भारत के अलावा इंग्लैंड और श्रीलंका की टीमें शामिल थीं।

लॉर्ड्स में पहले मैच में युवराज ने अपने ऑलराउंड प्रदर्शन (3/39 और 64*) के लिए मैन ऑफ द मैच जीता।

भारत ने इंग्लैंड के 271 के स्कोर का सफलतापूर्वक पीछा किया।

युवराज ने टीम इंडिया को तालिका में शीर्ष पर पहुंचाने और फाइनल में पहुंचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

फाइनल भारत और इंग्लैंड के बीच 13 जुलाई को लॉर्ड्स में खेला गया था।

टॉस जीतने और पहले बल्लेबाजी करने के बाद, इंग्लैंड ने 50 ओवरों में 325/5 का कुल स्कोर किया।

जवाब में, भारत 24 ओवर में 146/5 पर संघर्ष कर रहा था, जब मोहम्मद कैफ युवराज का साथ देने क्रीज पर आए।

इस जोड़ी ने शुरुआत में पारी को स्थिर किया और बाद में तेज गति से रन बनाए।

दोनों ने छठे विकेट के लिए 121 रनों की साझेदारी की। युवराज ने 63 गेंदों में 69 रन बनाये।

भारत ने तीन गेंद शेष रहते दो विकेट से मैच जीत लिया।

लगातार नौ हार के बाद किसी एकदिवसीय टूर्नामेंट के फाइनल में भारत की यह पहली जीत थी।

इस जीत को वनडे क्रिकेट में भारत की सबसे बड़ी जीत के रूप में माना जाता है।

ICC World Twenty20 2007

युवराज दक्षिण अफ्रीका में ICC World Twenty20 2007 के लिए भारतीय टीम के उप-कप्तान थे।

डरबन में इंग्लैंड के खिलाफ भारत के super 8 मैच में, उन्होंने स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में छह छक्के मारे।

उन्होंने सिर्फ 12 गेंदों में 50 रन मारे, जो Twenty20 में सबसे तेज अर्धशतक है।

उन्होंने 16 गेंदों पर 58 रनों के साथ अपनी पारी समाप्त की और man-of-the-match जीता।

सेमीफाइनल में, उन्होंने 30 गेंदों पर 70 रन बनाए और ब्रेट ली की गेंदबाजी में टूर्नामेंट का सबसे लंबा छक्का (119 मीटर (390 फीट)) लगाया।

भारत ने मैच जीता और युवराज को एक और man-of-the-match का पुरस्कार दिया गया।

पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में वे 14 रन पर आउट हो गए।

हालाँकि भारत ने पाँच रन से जीत दर्ज की और ट्रॉफी जीती।

ICC World Cup 2011

युवराज ने भारत को ICC Cricket World Cup 2011 जीताने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

उन्होंने एक शतक और चार अर्द्धशतक सहित 362 रन बनाए, 15 विकेट लिए।

चार man-of-the-match जीते और उन्हें Player of the Tournament से भी सम्मानित किया गया।

इस दौरान वे 300 से अधिक रन बनाने वाले और एक ही विश्व कप में 15 विकेट लेने वाले पहले हरफनमौला खिलाड़ी बन गए।

इसी टूर्नामेंट में आयरलैंड के खिलाफ भारत के मैच में, वे 5 विकेट लेने वाले और विश्व कप मैच में 50 रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए।

Indian Premier League

yuvi

युवराज के लिए IPL का कैरियर उतार-चढ़ाव भरा रहा।

अपने IPL कैरियर में युवराज ने Kings XI Punjab, Pune Warriors, Royal Challengers Bangalore, Delhi Daredevils, Sunrisers Hyderabad और Mumbai Indians के लिए IPL खेला।

2016 IPL फाइनल में उन्होंने Sunrisers Hyderabad को ट्रॉफी दिलाने में अहम भूमिका निभाई।

उन्हें 2019 आईपीएल नीलामी से पहले Kings XI Punjab द्वारा रिलीज़ किया गया था।

नीलामी में युवराज सिंह को Mumbai Indians ने उनके base price ₹1 करोड़ में खरीदा था।

उन्हें बस कुछ ही मैचों में खेलने का मौका मिला।

पढ़ें: आयुष्मान खुराना का जीवन परिचय

Yuvraj Singh’s Fight With Cancer

ICC विश्व कप के बाद उन्हें अपने बाएं फेफड़े में Cancer के stage-1 का पता चला था।

युवराज के कैंसर का पता 2011 में एक रूसी डॉक्टर ने लगाया था।

उन्होंने Boston, United States में Cancer Research Institute और Indianapolis, Indiana में University Melvin & Bren Simon Cancer Center में chemotherapy के माध्यम से उपचार करवाया।

उनका उपचार मशहूर oncologist Dr. Lawrence Einhorn द्वारा किया गया।

मार्च 2012 में, युवराज को chemotherapy के तीसरे और अंतिम चक्र को पूरा करने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई और वे अप्रैल में भारत लौट आए।

Indianapolis में अपने कीमोथेरेपी सत्र के बाद, युवराज ने World Twenty20 में क्रिकेट को फिर से शुरू करने का लक्ष्य रखा।

उन्होंने 2012 World Twenty20 से कुछ समय पहले न्यूजीलैंड के खिलाफ सितंबर में एक Twenty20 मैच से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी की।

सम्मान

1. उन्हें 2012 में भारत के राष्ट्रपति द्वारा अर्जुन पुरस्कार (भारत का दूसरा सर्वोच्च खेल पुरस्कार) से सम्मानित किया गया था।

2. 2014 में, उन्हें पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

3. अगस्त 2018 में Power Brands ने युवराज सिंह को मैदान के अंदर और बाहर एक प्रभावशाली खिलाड़ी होने और कैंसर के खिलाफ लड़ाई के लिए Bharatiya Manavata Vikas Puraskar से सम्मानित किया।

Yuvraj Singh के बारे में अन्य जानकारी

12 नवंबर 2015 को, युवराज ने हेज़ल कीच से सगाई की और 30 नवंबर 2016 को उनसे शादी कर ली।

YouWeCan भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह और उनकी माँ शबनम सिंह द्वारा स्थापित एक फाउंडेशन है जिसका उद्देश्य कैंसर से लड़ने के लिए और इस घातक बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाना है।

YouWeCan ने सैकड़ों कैंसर रोगियों का इलाज किया है।

उनकी आत्मकथा का नाम है The Test of My Life : From Cricket to Cancer and Back.

युवराज सिंह के बारे में पढ़ने के लिए आप उनकी आत्मकथा The Test of My Life : From Cricket to Cancer and Back को यहाँ से खरीद सकते हैं।

यह पुस्तक से आप क्रिकेट में उनके कई घटनाओं के बारे में जान पाएंगे।

किस तरह से वे भारतीय क्रिकेट टीम के एक star player बन गए।

पुस्तक में उनके व्यक्तिगत पक्ष, अर्थात् उनके परिवार, उनके माता-पिता के तलाक और कैंसर के साथ उनके संघर्ष के बारे में बताया गया है।

पढ़ें: विराट कोहली की जीवनी

Leave a Reply