Republic Day Speech in Hindi | गणतंत्र दिवस 2020 पर भाषण

Republic Day India

Republic Day Speech in Hindi

Happy 71st Republic Day to you all !

गणतंत्र दिवस उस तारीख को सम्मानित करता है जिस दिन भारत का संविधान लागू हुआ।

26 जनवरी 1950 को भारत सरकार अधिनियम (1935) की जगह भारत के शासन दस्तावेज के रूप में भारत का संविधान लागू हुआ।

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में चुना गया था क्योंकि 1929 में इसी दिन भारतीय स्वतंत्रता की घोषणा (पूर्ण स्वराज) को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा ब्रिटिश शासन द्वारा पेश किए गए डोमिनियन स्टेटस के विरोध के रूप में घोषित किया गया था।

Republic Day Speech 2020 in Hindi

आदरणीय मुख्य अतिथि, यहाँ उपस्थित सभी शिक्षक गण और मेरे प्यारे भाइयों- बहनों, आज 26 जनवरी है।

आज हम अपना 71वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं।

आज के ही दिन सन 1950 में भारत का संविधान लागू हुआ था।

मैं आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूँ।

दोस्तों, भारत ने 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों से स्वतंत्रता हासिल की थी।

हालाँकि अभी तक देश के पास एक स्थायी संविधान नहीं था।

देश के कानून भारत की संशोधित औपनिवेशिक सरकार अधिनियम 1935 पर आधारित थे।

29 अगस्त 1947 को, डॉ. बी.आर.अंबेडकर की अध्यक्षता में ड्राफ्टिंग कमेटी को एक स्थायी संविधान का मसौदा तैयार करने के लिए नियुक्त किया गया था।

समिति द्वारा एक मसौदा संविधान तैयार किया गया और 4 नवंबर 1947 को संविधान सभा को प्रस्तुत किया गया।

2 साल, 11 महीने और 18 दिनों की अवधि के दौरान 166 दिन के सत्रों के बाद इस संविधान को अपनाया गया।

कई विचार-विमर्श और कुछ संशोधनों के बाद, असेंबली के 308 सदस्यों ने 24 जनवरी 1950 को दस्तावेज़ की दो हस्तलिखित प्रतियों (हिंदी और अंग्रेजी में एक-एक) पर हस्ताक्षर किए।

दो दिन बाद, 26 जनवरी 1950 को इस संविधान को पूरे देश में लागू कर दिया गया।

इसी दिन से डॉ. राजेंद्र प्रसाद का भारतीय संघ के अध्यक्ष अर्थात् देश के राष्ट्रपति के रूप में पहला कार्यकाल शुरू हुआ।

संविधान सभा नए संविधान के संक्रमणकालीन प्रावधानों के तहत भारत की संसद बनी।

इस तिथि को भारत में गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Republic Day Celebration

गणतंत्र दिवस के अवसर पर स्कूलों, कॉलेजों, सरकारी संस्थानों, राज्यों की राजधानियों, आदि जगहों में ध्वजारोहण और विभिन्न देशभक्ति के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

साथ ही परेड का आयोजन किया जाता है।

Republic Day Parade At Delhi

गणतंत्र दिवस के महत्व को चिह्नित करने के लिए,  26 जनवरी को हर साल देश की राजधानी नई दिल्ली में भव्य परेड आयोजित की जाती है।

परेड शुरू होने से पहले, प्रधानमंत्री शहीद सैनिकों की स्मृति में बने अमर जवान ज्योति पर पुष्प अर्पित करते हैं।

इस प्रकार उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद उनकी याद में दो मिनट का मौन रखा जाता है।

republic day

इसके बाद देश के राष्ट्रपति मुख्य अथिति के साथ आते हैं।

इस वर्ष गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अथिति ब्राज़ील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो हैं।

सबसे पहले, राष्ट्रपति राष्ट्रीय ध्वज को फहराते हैं, राष्ट्रगान बजाया जाता है, और 21 तोपों की सलामी दी जाती है।

अशोक चक्र और कीर्ति चक्र जैसे महत्वपूर्ण पुरस्कार राष्ट्रपति द्वारा दिए जाते हैं।

इसके बाद राष्ट्रपति बहादुर सैनिकों और साहसी नागरिकों को बहादुरी के लिए पदक देकर सम्मानित करते हैं।

जो बच्चे राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार प्राप्त करते हैं, वे रंग-बिरंगे सजे-धजे हाथियों की सवारी कर परेड में भाग लेते हैं।

सबसे बड़ी और सबसे महत्वपूर्ण परेड

दिल्ली में होने वाली गणतंत्र दिवस परेड भारत में गणतंत्र दिवस समारोह को चिह्नित करने वाली सबसे बड़ी और सबसे महत्वपूर्ण परेड है।

यह भारत के गणतंत्र दिवस समारोह का मुख्य आकर्षण है, जो 3 दिनों तक चलता है।

Republic_Day_parade

परेड राष्ट्रपति भवन से राजपथ के पास, इंडिया गेट तक मार्च करती है।

परेड में भारत की रक्षा क्षमता, सांस्कृतिक और सामाजिक विरासत को दिखाया जाता है।

नौसेना और वायुसेना के अलावा भारतीय सेना के नौ से बारह अलग-अलग रेजिमेंट और उनके बैंड अपने सभी बारीकियों और आधिकारिक सजावट में मार्च पास्ट करते हैं।

भारत के राष्ट्रपति जो भारतीय सशस्त्र बलों के कमांडर-इन-चीफ हैं, सलामी लेते हैं।

भारत के विभिन्न अर्ध-सैन्य बलों और पुलिस बलों के बारह दल भी इस परेड में हिस्सा लेते हैं।

विभिन्न राज्यों की झांकी उनकी संस्कृति को प्रदर्शित करती हैं।

ये भारत की विविधता और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत में इसकी एकता को दर्शाते हैं।

Beating Retreat

बीटिंग रिट्रीट समारोह परेड के अंत का प्रतीक है।

बीटिंग रिट्रीट समारोह को गणतंत्र दिवस उत्सव के अंत को आधिकारिक रूप से दर्शाते हुए आयोजित किया जाता है।

यह गणतंत्र दिवस के बाद तीसरे दिन 29 जनवरी की शाम को आयोजित किया जाता है।

यह सेना के तीनों विंग, भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय वायु सेना के बैंड द्वारा किया जाता है।

समारोह के मुख्य अतिथि भारत के राष्ट्रपति होते हैं।

Constitution of India

संविधान लोकतांत्रिक राष्ट्र को नियंत्रित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले नियमों और विनियमों का समूह है।

भारतीय संविधान सरकार के मूल ढांचे को दर्शाता है जिसके तहत देश के लोगों को शासित किया जाता है।

यह सरकार के मुख्य अंगों की स्थापना करता है – कार्यपालिका, विधायिका और न्यायपालिका।

संविधान न केवल प्रत्येक अंग की शक्तियों को परिभाषित करता है, यह प्रत्येक की जिम्मेदारियों का सीमांकन करता है।

यह विभिन्न अंगों और सरकार और लोगों के बीच संबंधों को नियंत्रित करता है।

भारतीय संविधान ने 1947 में स्वतंत्रता के बाद एक विविध, एकजुट, प्रगतिशील, समृद्ध और धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र के निर्माण में भारत की मदद की है।

यह जाति, पंथ और धर्म को दरकिनार करते हुए धर्मनिरपेक्ष दृष्टिकोण के साथ समानता, बंधुत्व और स्वतंत्रता पर बनाया गया है।

महात्मा गांधी, प. जवाहरलाल नेहरू, डॉ. भीमराव अंबेडकर, सरदर वल्लभभाई पटेल, अबुल कलाम आजाद जैसे हमारे नेताओं की दूरदर्शिता ने शक्तिशाली और महान भारत की नींव रखने में बहुत योगदान दिया।

जैसे इन स्वतंत्रता सेनानियों ने अंग्रेजों को हमारे देश से बाहर निकाला था उसी प्रकार हमें भी आज अपराध, भ्रष्टाचार और हिंसा जैसी समस्याओं को अपने देश से बाहर निकालना।

हमें अपने देश भारत को एक विकसित, स्वच्छ और एक सफल देश बनाना है।

देश की अशिक्षा, गरीबी, बेरोजगारी, ग्लोबल वार्मिंग जैसी चीजों को हमें अच्छी तरह से समझना होगा और इनका हल निकालना होगा।

तो चलिए दोस्तों, हम सब प्रतिज्ञा लें कि हम देश की एकता और अखंडता को बनाए रखेंगे और देश के विकास में बढ़-चढ़कर अपना योगदान देंगे।

One person can make a difference, and everyone should try.

इतना ही कह कर मैं अपनी वाणी को विराम देना चाहूँगा। मुझे सुनने के लिए आप सभी का धन्यवाद।

जय हिंद ! वन्दे मातरम !

इन्हें भी देखें:



उम्मीद है गणतंत्र दिवस के अवसर पर यह पोस्ट Republic Day Speech in Hindi आपको पसंद आया होगा। अपने विचार comments के माध्यम से अवश्य share करें।

2 thoughts on “Republic Day Speech in Hindi | गणतंत्र दिवस 2020 पर भाषण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *