Durga Puja in Hindi | जानें दुर्गा पूजा के त्यौहार के बारे में

Durga Puja

Durga Puja in Hindi

Durga Puja/दुर्गा पूजा जिसे दुर्गोत्सव भी कहा जाता है, एक वार्षिक हिंदू त्योहार है जिसमें हिंदू देवी दुर्गा की पूजा की जाती है। यह भारत में एक बहुत लोकप्रिय त्योहार है विशेष रूप से पश्चिम बंगाल, असम, बिहार, त्रिपुरा और ओडिशा में।

त्योहार हिंदू कैलेंडर के आश्विन के महीने में मनाया जाता है जो ग्रेगोरियन कैलेंडर में सितंबर-अक्टूबर के महीनों से मेल खाता है।

पूजा नवरात्रि से शुरू होती है लेकिन मुख्य पूजा छठे दिन से दसवें दिन तक की जाती है।

इन दिनों को षष्ठी, महासप्तमी, महाअष्टमी, महानवमी और विजयादशमी कहा जाता है।

माँ दुर्गा के नौ रूप शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री हैं।

Navdurga

दुर्गा पूजा हिंदू धर्म की शक्तिवाद परंपरा में एक महत्वपूर्ण त्योहार है।

आज के समय में, दुर्गा पूजा का महत्व एक धार्मिक उत्सव के साथ-साथ एक सामाजिक और सांस्कृतिक उत्सव भी है।

दुर्गा पूजा के दौरान मुख्य रूप से माँ दुर्गा की पूजा की जाती है, लेकिन उत्सव में अन्य देवी-देवताओं जैसे कि लक्ष्मी, सरस्वती, गणेश, और कार्तिकेय की भी पूजा की जाती है।

बंगाली परंपराओं में, इनको दुर्गा माता की संतान माना जाता है।

घरों में और सार्वजनिक रूप से पूजा की जाती है, अस्थायी चरण और संरचनात्मक सजावट की जाती है, जिन्हें पंडाल कहा जाता है।

पढ़ें:महाशिवरात्रि का त्यौहार

Why is Durga Puja celebrated ?

महिषासुर के खिलाफ लड़ाई

पौराणिक कथाओं के अनुसार त्यौहार आकार बदलने वाले असुर, महिषासुर के खिलाफ लड़ाई में देवी दुर्गा की जीत का प्रतीक है।

महिषासुर ने अपने बल और पराक्रम से देवताओं से स्वर्गलोक को छीन लिया था।

तब सारे देवता साथ में भगवान शिव और भगवान विष्णु के पास अपनी समस्या लेकर गए।

तब देवताओं के तेज़ से माँ दुर्गा का सृजन हुआ और देवताओं ने उन्हें अपने शस्त्रों से सुशोभित किया।

माँ दुर्गा ने महिषासुर से भीषण युद्ध करके उसे परास्त कर दिया।

और फिर स्वर्गलोक को देवताओं को सौंप दिया। इसलिए उन्हें महिषासुरमर्दिनी भी कहा जाता है।

इस प्रकार, त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

भगवान राम की पूजा

एक अन्य कथा के अनुसार भगवान राम ने माँ दुर्गा की नौ दिनों तक पूजा की थी और दसवें दिन रावण का वध किया था।

और इस तरह देवी सीता को लंका से मुक्त करवाया था।

इस दिन को याद करने के लिए दुर्गा पूजा के दसवें दिन यानि विजया दशमी के दिन कई जगहों पर रावण के पुतले बनाकर दहन किये जाते हैं।

फसल उत्सव

हालाँकि यह एक फसल उत्सव भी है जिसमें देवी को जीवन और निर्माण के पीछे मातृ शक्ति के रूप में मनाया जाता है।

दुर्गा पूजा हिंदू धर्म की शक्तिवाद परंपरा में मनाया जाने वाला एक मानसून फसल उत्सव भी है।

माँ दुर्गा के प्रतीक के रूप में नौ अलग-अलग पौधों के एक बंडल, जिसे नवपत्रिका कहा जाता है, शामिल है।

आमतौर पर चुने गए पौधों में न केवल महत्वपूर्ण फसलें शामिल हैं, बल्कि गैर-फसलें भी शामिल हैं।

यह संभवतः हिंदू धारणा को दर्शाता है कि देवी “केवल फसलों की वृद्धि में निहित शक्ति नहीं है, बल्कि सभी वनस्पतियों में निहित शक्ति है”

Durga Puja Celebrations

दुर्गा पूजा का पहला दिन महालया है, जो देवी के आगमन को दर्शाता है।

छठे दिन (षष्ठी) को देवी का स्वागत किया जाता है और उत्सव का उद्घाटन किया जाता है।

सातवें दिन (सप्तमी), आठवें (अष्टमी) और नौवें (नवमी) दिन, देवी दुर्गा के साथ देवी लक्ष्मी, देवी सरस्वती, भगवान गणेश और भगवान कार्तिकेय की पूजा की जाती है।

Durga Puja Pandal

लोग अपने परिवार, दोस्तों के साथ दुर्गा माता का दर्शन करने पंडालों में जाते हैं।

पंडालों में अनेक प्रकार से सजावट किये जाते हैं जो देखने में काफी भव्य लगते हैं।

मूर्तियों और पंडालों को बनाने की प्रक्रिया महीनों पहले से ही शुरू हो जाती है।

कई पंडाल किसी विषय पर आधारित होते हैं जो सामाजिक सन्देश देते हैं।

कई पंडाल कुछ मौजूदा मंदिरों, संरचनाओं और स्मारकों की प्रतिकृति के तौर पर बनाए जाते हैं।

और किसी-किसी पंडालों को किसी बड़ी महत्वपूर्ण घटना का वर्णन करते हुआ दिखाया जाता है।

यह त्यौहार दसवें दिन (विजयादशमी) को समाप्त होता है, जब भक्त मूर्तियों को एक नदी या अन्य जल निकाय में ले जाते हैं, और उन्हें विसर्जित करते हैं।

पढ़ें: दिवाली कैसे मनाएं ?

Durga Puja Outside India 

दुर्गा पूजा भारत के अलावा बांग्लादेश के हिंदू समुदाय द्वारा मनाया जाता है।

नेपाल में, उत्सव को दशईं के रूप में मनाया जाता है।

इसके अलावा संयुक्त राज्य अमेरिका में बंगाली समुदायों द्वारा दुर्गा पूजा का आयोजन किया जाता है।

हांगकांग में भी दुर्गा पूजा समारोह बंगाली प्रवासियों द्वारा शुरू किया गया है।

दुर्गा पूजा इंग्लैंड, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, स्वीडन, नीदरलैंड, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में भी मनाई जाती है।

इन्हें भी देखें:



उम्मीद है ये पोस्ट Durga Puja in Hindi आपको पसंद आया होगा। post आपको कैसा लगा ? Comments के माध्यम से अपने विचार जरूर share करें।

आप सबको दुर्गा पूजा की हार्दिक शुभकामनायें!

Leave a Reply